Rss Feed

  1. रोज़ सुबह 6 .30, एक लम्बी पतली सी धूप मेरे दरवाज़े के नीचे से खिसकते हुए मेरे चहरे  पर चढ़ जाती है.
    |


  2. 0 comments:

    Post a Comment